BREAKING : नामचीन कंपनी EDII की छत्तीसगढ़ में एंट्री….बड़े स्तर पर मिलेगा युवाओं को फ़ायदा, पढ़ें रिपोर्ट

0 0
Read Time:5 Minute, 4 Second

 

उर्वशी मिश्रा, रायपुर/ अहमदाबाद | 10 दिसम्बर, 2021

 

 

छत्तीसगढ़ के महिलाओं, विकलांगों, छात्रों, कारीगरों, कृषकों और ट्रांसजेंडरों को रोजगार के बेहतर विकल्प मुहैया कराने भारतीय उद्यमिता विकास संस्थान (ईडीआईआई) ने राज्य में दस्तक दी है। गुजरात के अहमदाबाद की इस कम्पनी द्वारा राजधानी के एक स्थानीय होटल में पत्रकार वार्ता आयोजित की गयी।

 

इस प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए ईडीआईआई के महानिदेशक डॉ. सुनील शुक्ल ने छत्तीसगढ़ हेतु विभिन्न उद्यमिता की परियोजनाओं पर चर्चा की, उन्होंने यह भी बताया कि भारतीय उद्यमिता विकास संस्थान (ईडीआईआई) अहमदाबाद भारत सरकार के कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय से उत्कृष्टता केंद्र (सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस) के रूप में मान्यता प्राप्त है। यह संस्थान शिक्षा, अनुसंधान, प्रशिक्षण, राष्ट्रीय और अंतर-राष्ट्रीय स्तर पर उद्यमिता को बढ़ावा देने के क्षेत्र में एक नेशनल रिसोर्स आर्गेनाइजेशन है।

ये भी पढ़ें :  Chhattisgarh : अब मजदूर के बच्चे भी बनेंगे अफसर, प्रदेश के इन 10 जिलों में निःशुल्क कोचिंग जुलाई से होगी शुरू
Photo : मीडिया को जानकारी देते महानिदेशक डॉक्टर शुक्ल

क्या है EDII?

ईडीआईआई के महानिदेशक डॉ. सुनील शुक्ल ने बताया कि ईडीआईआई पिछले 4 वर्षों से स्टार्टअप विलेज एंटरप्रेन्योरशिप प्रोग्राम (एसवीईपी) के लिए छत्तीसगढ़ में एसआरएलएम के साथ काम कर रहा है जो की बिहान के रूप में जाना जाता है | ईडीआईआई द्वारा छत्तीसगढ़ के चार आवंटित ब्लॉकों में 8000 से अधिक आजीविका उद्यमों को बढ़ावा दिया है। जिनमे आदिवासी और महिला उद्यमियों की बहुलता है।

Photo : रायपुर पहुँचे EDII के सदस्य

उन्होंने बताया कि ईडीआईआई ने हाल ही में रायपुर में एक कार्यालय खोला है ताकि उद्यमिता शिक्षा, अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए शैक्षणिक संस्थानों, सरकार और उद्योग के बीच परस्पर निर्भरता और सहयोग का माहौल तैयार किया जा सके और छत्तीसगढ़ और उसके आस-पास के क्षेत्रों में एमएसएमई क्षेत्र को सहायता प्रदान की जा सके, जिसका मुख्य उद्देश्य विशेष रूप से महिलाओं, विकलांगों, छात्रों, कारीगरों, कृषकों और ट्रांसजेंडरों का उत्थान है। छत्तीसगढ़ में प्रमुख संस्थानों जैसे डॉ. एस पी मुखर्जी आईआईआईटी नया रायपुर, गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय बिलासपुर और सरकार के साथ कई अन्य समझौता (एम्ओयू) हेतु पाइपलाइन में हैं। राज्य के प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के सहयोग से, ईडीआईआई का इरादा फिनटेक, एडुटेक, क्लेनटेक, हेल्थटेक, बायोटेक, आदि जैसे प्रौद्योगिकी में छात्र उद्यमिता के लिए एक अनुकूल माहौल बनाना है।
ईडीआईआई के महानिदेशक डॉ. सुनील शुक्ल ने कहा, छत्तीसगढ़ एक संसाधन संपन्न राज्य है और जिसमे लॉजिस्टिक्स, रत्न एवं आभूषण, खाद्य प्रसंस्करण, कपड़ा, दवा, आवश्यक तेल, जैव ईंधन, कृषि आदि के क्षेत्र में अपार संभावनाएं है। ईडीआईआई, लगभग चार दशकों के राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अनुभव के साथ, आदिवासी और ग्रामीण आबादी के जीवन में बदलाव लाने के लिए कार्यरत है।

ये भी पढ़ें :  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने दुर्ग में नामांकन दाखिल किया

 

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के समृद्ध वनस्पतियों और जीवों, पारंपरिक कला, शिल्प, कपड़ा और संस्कृति, विशेष रूप से दूरस्थ और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में ईडीआईआई, क्लस्टर विकास में कई वर्षों के अनुभव और तकनीकी विशेषज्ञता के साथ काम कर रहा है। इस उद्देश्य से राज्य सरकार, उद्योग और अन्य सहायता संस्थानों के साथ और अधिक सक्रियता से काम करने हेतु तत्पर है।

ये भी पढ़ें :  BREAKING :....फिर एक क्वॉरेंटाइन सेंटर ने निगल ली जान, छत्तीसगढ़ के सरायपाली में महिला ने दम तोड़ा, 2 जुड़वा शिशुओं को नानी के भरोसे छोड़ा, पढ़िये दर्दनाक हकीकत की एक और घटना

 

Happy
Happy
%
Sad
Sad
%
Excited
Excited
%
Sleepy
Sleepy
%
Angry
Angry
%
Surprise
Surprise
%
Share

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Comment